Home Dadi Maa Ke Nuskhe खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये

खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये

164
0
खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये

खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये

नमस्कार दोस्तों आज मैं आप लोगो को बताऊंगा कि अरुचि रोग क्यों होता है औरअरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये अरुचि रोग को इंग्लिश में “anorexia” कहते हैं।

किसी स्त्री-पुरुष को कब्ज की समस्या होती है, बार-बार कब्ज होती है तो आंत्रों में मल एकत्र होने से भूख नहीं लगती। अधिक चिंता, भय, क्रोध और घबराहट के कारण भी भूख नष्ट हो जाती है।

कुछ दिनों तक ऐसी स्थिति बनी रहे तो भूख पूरी तरह नष्ट हो जाती है। भोजन की सुगंध से भी अरुचि होने लगती है। कभी-कभी संक्रामक रोगों के चलते भूख नष्ट हो जाती है।  जब किसी कारण से शरीर में रक्त की अधिक कमी हो जाने से रक्ताल्पता (एनीमिया) रोग होता है तो रोगी की भूख नष्ट हो जाती है। रोगी को भोजन देखकर घृणा होने लगती है।

अरुचि रोग क्यों होता है?

अनियमित भोजन भी अरुचि रोग को उत्पन्न करता है। यकृत समस्या में भी भूख नहीं लगती।अरुचि रोग की स्थिति में रोगी को कोई भोजन आकर्षित नहीं करता। रोगी को जबरदस्ती खाने को कहा जाए तो उसे भोजन अरुचिकर (बेस्वाद) लगता है। रोगी एक-दो ग्रास से अधिक नहीं खा पाता। रोगी को बिना कुछ खाए-पीए खट्टी डकारें आती हैं।

कुछ भी काम करने व सीढ़ियां चढ़ने में रोगी बहुत थकावट अनुभव करता है। उसका सारा शरीर पसीने से भीग जाता है। अरुचि के कारण रोगी की शारीरिक निर्बलता बढने लगती है। रक्ताल्पता रोग की चिकित्सा में अधिक विलंब किया जाए तो रोगी प्राणघातक स्थिति में पहुंच जाता है।

अरुचि रोग का इलाज करने के लिए दादी माँ के घरेलु नुस्खे-

  • नीबू की शिकंजी बनाकर उसमें एक लौंग का चूर्ण और 5 काली मिर्च का चूर्ण डालकर दो बार पीने से अरुचि नष्ट होती है। पाचन क्रिया तीव्र होती है।
  • पीपल 5 ग्राम, टाटरी 15 ग्राम, भुनी हींग 3 ग्राम को कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर रखें। श्वेत जीरे को भूनकर कूटना चाहिए। इसमें 50 ग्राम मिश्री भी पीसकर मिला लें, इस चूर्ण को दिन में तीन-चार बार 3-3 ग्राम मात्रा में चाटकर खाने से बहुत लाभ होता है। अरुचि नष्ट होने के साथ भूख लगने लगती है।
  •  जामुन, फालसा व संतरा खाने से अरुचि नष्ट होती है। संतरे के 100 ग्राम रस में थोड़ा-सा सेंधा नमक, काली मिर्च के 5 दानों का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से अरुचि नष्ट होती है।
  •  तीन ग्राम पोदीने का रस, जीरा 1 ग्राम, हींग और काली मिर्च के 5 दाने पीसकर 250 ग्राम पानी में मिलाकर पीने से अरुचि नष्ट होती है।

भुख बढ़ाने के घरेलु उपाय-

  •  अदरक को बारीक काटकर उसमें थोड़ा-सा नीबू का रस और सेंधा नमक मिलाकर कांच के पात्र में रखें। दो घंटे के बाद थोड़ा-थोड़ा खाने से अरुचि नष्ट होती है।।
  • खजूर को नीबू के रस में पीसकर चटनी की तरह चाटकर खाने से अरुचि नष्ट होती है।

भुख बढ़ाने के घरेलु उपाय

  •  सोंठ, काली मिर्च, पीपल और अकरकरा प्रत्येक 12 ग्राम, अनारदाना 50 ग्राम, सेंधा नमक 50 ग्राम मिलाकर 5-5 ग्राम दिन में दो-तीन बार सेवन करने से अरुचि नष्ट होती है। अधिक भूख लगती है।
  • अजवायन 5 ग्राम, अमलतास 10 ग्राम को 400 ग्राम पानी में मिलाकर क्वाथ बनाएं। इस क्वाथ को सुबह-शाम पीने से अरुचि नष्ट होती है।
  • ताजे असगंध का रस 15 ग्राम निकालकर 30 ग्राम खांड मिलाकर पकाकर सेवन करने से अरुचि नष्ट होती है।

भुख बढ़ाने के आयुर्वेदिक नुस्खे-

  • आंवले और मुनक्कों को 10-10 ग्राम मात्रा में पीसकर मुंह में रखकर रस चूसने से अरुचि नष्ट होती है।
  • नागरमोथा, दालचीनी और आंवले को बराबर मात्रा में कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर रखें। इस चूर्ण को 3-3 ग्राम मात्रा में दिन में दो-तीन बार मुख में रखकर चूसने से अरुचि नष्ट होती है।
  • अदरक, नीबू का रस 3-3 ग्राम मिलाकर, थोड़ा-सा सेंधा नमक डालकर पीने से अरुचि नष्ट होती है। सुबह-शाम दो समय सेवन कर सकते हैं।
  • अनार का रस 25 ग्राम, मधु 5 ग्राम और काला नमक 3 ग्राम मिलाकर पीने से अरुचि की समस्या नष्ट होती है।
  • प्रतिदिन भोजन करने से पहले, कटे हुए अदरक का सेंधा नमक लगाकर सेवन करने से भूख बढ़ती है, अरुचि नष्ट होती है और साथ ही स्वर भंग की समस्या का निवारण होता है।

अरुचि रोग के इलाज के घरेलु नुस्खे-

  • काला नमक चाटने से दूषित वायु (गैस) का निष्कासन होता है और भूख बढ़ती है।
  • भोजन के 30-40 मिनट पहले चुकंदर, गाजर, टमाटर, पालक तथा अन्य हरी साग-सब्जियों व फलीदार सब्जियों के मिश्रण का रस पीने से भूख बढ़ती है। भोजन की पाचन क्रिया सरलता होती है।
  • गेहूं के चोकर में सेंधा नमक और अजवायन मिलाकर रोटी बनाकर खाएं। इससे निश्चय ही भूख बढ़ेगी।

भूख नहीं लगती तो करे ये उपाय

  • प्रतिदिन सेब खाने व सेब का रस पीने से भूख बढ़ती है और रक्त भी शुद्ध होता है।
  • लाल मिर्चे को नीबू के रस में चालीस दिन तक घोटकर दो-दो रत्ती की गोलियां बना लें। प्रतिदिन एक गोली पान में रखकर खाने से खूब भूख लगती है।
  • टमाटर का सॉस (चटनी) चाटते रहने या पके टमाटर की फांकें काली मिर्च का चूर्ण डालकर खाने से अरुचि नष्ट हो जाती है।

भूख नहीं लगती तो करे ये उपाय

भूख न लगना

कभी-कभी पेट की समस्या से व्यक्ति की भूख कम होती चली जाती है। कुछ दिनों तक इस बात पर ध्यान न दिया जाए तो बिल्कुल भूख नहीं लगती। भोजन की ओर देखने की भी इच्छा नहीं होती। अत्यंत स्वादिष्ट भोजन भी रोगी को अरुचिकर लगता है। इस समस्या को अरुचि अर्थात भूख न लगना कहते हैं।

खाने में अरुचि पर दादी माँ की छोटी से घटना-

कछ दिन पहले घर के सब छोटे-बड़े सदस्य डायनिंग हॉल में एकत्र हुए। दादी भी वहीं उपस्थित थीं। उस दिन विशेष रूप से कुछ पकवान, खीर और हलवा आदि बनाए गए थे। पुरी और मटर-पनीर की सब्जी देखकर सबके मुंह में पानी आ रहा था। सभी जल्दी-से-जल्दी भोजन करना चाहते थे।

तभी दादी मां की दृष्टि मंझले बेटे की ओर गई। सभी खाने में लगे थे, लेकिन मंझला बेटा सुनील चुपचाप बैठा था। तभी दादी मां ने कहा-‘सुनील! तुम कुछ नहीं खा रहे हो? क्या तुम्हारी पसंद का कोई खाना नहीं?

‘नहीं दादी मां। ऐसी बात नहीं । कई दिनों से मुझे खाना खाने की इच्छा नहीं हो रही। भूख नहीं लगती। भोजन की ओर देखने की भी इच्छा नहीं होती है। मंझले बेटे सुनील ने कहा।

‘हूं! इसका मतलब तुम्हें अरुचि रोग हुआ है। खाना खाने के बाद मैं तुम्हें दवा दूंगी। दो-तीन दिन उस दवा को खाने से तुम्हें भूख लगने लगेगी। अरुचि नष्ट हो जाएगी । दादी मां ने कहा।

दादी मां ने कुछ जड़ी-बूटियां कूट-पीसकर सुनील को दवा बनाकर दी। उस दवा के खाने से तीन-चार दिन में सुनील का अरुचि रोग नष्ट हो गया।

हमारा आपसे निवेदन:

हमारे प्रिय पाठको हमें उम्मीद है की आपको “खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये“ लेख जरूर पसंद आया होगा और आप के काम का भी होगा।  यदि आपको हमारा “खाने से अरुचि रोग को दूर कर भूख कैसे बढ़ाये“ लेख अच्छा लगा होतो अपने जरुरतमंद परिवार के सदस्यो तथा मित्रो के साथ शेयर करे।  यदि आप हमसे  प्रश्न करना चाहते हैं या किसी भी प्रकार का घरेलु उपचार जानना चाहते हैं कृपया करके कमेंट करे। हमें आपकी मदद करके ख़ुशी होगी। धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here